राकेश झुनझुनवाला की एयरलाइन ‘Akasa Air’ को मिली मंजूरी, उड्डयन मंत्रालय ने दिया NOC

एयरलाइन्स मार्केट में एक और नया खिलाड़ी आनेवाला है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने राकेश झुनझुनवाला की Akasa एयरलाइंस को नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) दे दिया है। Akasa Air और तीन दूसरी एयरलाइन कंपनियों ने अगस्त में शेड्यूल एयर पैसेंजर्स सर्विस और एयर कार्गो सर्विस शुरू करने के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय से NOC के लिए आवेदन किया था। SNV एविएशन प्राइवेट लिमिटेड के तहत Akasa Air एक नया भारतीय एयरलाइन है, जिसमें राकेश झुनझुनवाला ने निवेश किया है। जेट एयरवेज के पूर्व CEO विनय दुबे इसके CEO होंगे। कम लागत वाली ये एयरलाइन अब अपने एयर ऑपरेशन के परमिट के लिए नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) से संपर्क करेगी। एयरलाइन को अब DGCA से लाइसेंस मिलने का इंतजार है। अगर समय से लाइसेंस मिल जाता है तो 2022 की गर्मियों में इसका हवाई सफर शुरु हो जाएगा।

 

Akasa Air के CEO विनय दुबे ने एक प्रेस रिलीज में कहा, andquot;हम नागरिक उड्डयन मंत्रालय को उनके समर्थन और NOC देने के लिए बेहद खुश और आभारी हैं। हम Akasa Air को सफलतापूर्वक लॉन्च करने के लिए जरूरी सभी अतिरिक्त अनुपालनों पर रेगुलेटरी अथॉरिटी के साथ काम करना जारी रखेंगे।andquot; कंपनी ने अपने बयान में कहा कि एयरलाइन 2022 की गर्मियों तक भारत में ऑपरेशन शुरू करना चाहती है। रिपोर्ट्स के मुताबिक विमान खरीदने के लिए अकासा एयर Boieng और Airbus से बातचीत कर रही है।

 

घरेलू एयरलाइन Indigo के पूर्व अध्यक्ष आदित्य घोष, राकेश झुनझुनवाला और जेट एयरवेज के पूर्व CEO विनय दुबे के साथ अकासा के कोफाउंडर हैं। माना जा रहा है कि झुनझुनवाला के पास नई एयरलाइन में लगभग 40 प्रतिशत हिस्सेदारी है। वह वेंचर में 35 मिलियन डॉलर का निवेश करने पर विचार कर रहे हैं। आपको बता दें कि राकेश झुनझुनवाला को भारत का वॉरेन बफेट कहा जाता है। उनकी कुल संपत्ति 5.7 बिलियन डॉलर (अक्टूबर 2021) है। उन्होंने कई एयरलाइन कंपनियों में 250 करोड़ के करीब निवेश किया है।

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.