बिहार पुलिस के घूसखोर दारोगा की कहानी, ढाई साल तक नहीं छुआ वेतन का पैसा, फिर भी हुआ मालामाल

दारोगा ने ढाई साल तक नहीं छुआ वेतन का पैसा, ईओयू की छापेमारी, अवैध बालू खनन में निलंबित डोरीगंज के तत्कालीन थानेदार के ठिकानों पर छापे, मुजफ्फरपुर के अलावा बेतिया जिले में स्थित पैतृक घर की ईओयू ने ली तलाशी

 

 

अवैध बालू खनन में निलंबित डोरीगंज (सारण) के तत्कालीन थानेदार संजय प्रसाद पर ईओयू का शिकंजा कस गया है। आय से अधिक संपत्ति मामले में मंगलवार को उनके दो ठिकानों पर छापेमारी की गई। इस दौरान 2.30 लाख नगद व अन्य चल-अचल संपत्तियों का पता चला। ईओयू के मुताबिक उन्होंने मई 2015 से अक्टूबर 2017 के बीच अपने वेतन खाते से एक रुपए की भी निकासी नहीं की। दारोगा के पास आय से 24 लाख 82 हजार 944 अधिक की परिसंपत्तियां मिली हैं।

 

 

ईओयू के मुताबिक अवैध बालू खनन एवं इसके गैर कानूनी व्यापार में संलिप्त अधिकारियों की जांच के दौरान पाया गया कि थानेदार संजय प्रसाद ने पद का दुरुपयोग कर आय से अधिक संपत्ति बना रखी है। भ्रष्टाचार निरोध अधिनियम के तहत मामला दर्ज करने के बाद उनके दो ठिकानों पर छापेमारी की गई। मुजफ्फरपुर के काजी मोहम्मदपुर थाने के टीवीएस ऑटो मोबाइल के पास रमेश कुमार के मकान में किराए के फ्लैट व बेतिया के साठी थाना क्षेत्र स्थित सम्होता के पैतृक आवास की तलाशी हुई।

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.