जीतन मांझी बोले- समीर वानखेडे शादी के समय मुस्लिम थे तो अब दलित कैसे? आरक्षण की डकैती हुई

New Delhi : राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी नेता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने आज समीर वानखेड़े की 2006 में हुई शादी का निकाहनामा जारी किया है। इससे स्पष्ट है कि वे शादी के समय मुसलमान थे। अब यह सवाल उठने लगा है कि अगर वे शादी के समय मुसलमान थे तो फिर नौकरी के समय दलित कैसे हो गये और एससी सीट पर आरक्षण लेकर अफसर कैसे बन गये।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने नवाब मलिक के ट‍्वीट को रिट‍्वीट करते हुये लिखा है- यदि समीर वानखेडे अपने शादी के समय मुस्लिम थें तो अब दलित कैसे बन गये? कही ये पंजाब के आरक्षित सीट फरीदकोट(SC) के @INCIndia सांसद मो.सादिक अली टाईप फर्जी सर्टिफिकेट वाले दलित तो नहीं? ऐसे ही लोग आरक्षण की डकैती कर SC/ST/OBC वर्ग के लोगों का अधिकार छीन रहें हैं।

 

 

 

नवाब मलिक ने कहा है- मैं यह साफ कर देना चाहता हूं कि मैं जिस मुद्दे को समीर दाऊद वानखेड़े को उजागर कर रहा हूं, वह उसके धर्म का नहीं है। मैं उन कपटपूर्ण साधनों को प्रकाश में लाना चाहता हूं जिनके द्वारा उन्होंने आईआरएस की नौकरी पाने के लिये फर्जी जाति प्रमाण पत्र प्राप्त किया है और एक योग्य अनुसूचित जाति के व्यक्ति को उसके भविष्य से वंचित किया है।

 

 

उन्होंने ट‍्वीट किया है- मेहर की रकम 33000 रुपये थी। गवाह नंबर 2 अजीज खान समीर दाऊद वानखेड़े की बड़ी बहन यास्मीन दाऊद वानखेड़े का पति था। गुरुवार 7 दिसंबर 2006 को रात 8 बजे, लोखंडवाला परिसर, अंधेरी (पश्चिम) मुंबई में समीर दाऊद वानखेड़े और शबाना कुरैशी के बीच निकाह किया गया।

नवाब मलिक ने क्रूज ड्रग छापे को फेक करार देते हुये आरोप लगाया है कि उस वक्त क्रूज पर एक इंटरनेशनल ड्रग डीलर अपनी गर्लफ्रेंड के साथ मौजूद था, लेकिन एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े व उनकी टीम ने उसे जाने दिया।

 

 

नवाब मलिक ने कहा है- क्रूज़ पर अपनी प्रेमिका के साथ एक अंतरराष्ट्रीय ड्रग माफिया मौजूद था। उसे नाचते हुये देखा गया था। सभी एनसीबी अधिकारियों को ड्रग माफिया की उपस्थिति के बारे में पता था, लेकिन उन्होंने अनदेखा कर दिया। वह दाढ़ी वाला लड़का था … यह दाढ़ीवाला कौन है? मैं जल्द ही और विवरण दूंगा। वानखेड़े ने हमेशा गोवा में ड्रग रैकेट पर आंखें मूंद ली हैं।

नवाब मलिक ने कहा- आरोप लगाया जा रहा है कि मैं क्रूज रेड मामले में जांच को पटरी से उतारने की कोशिश कर रहा हूं। लेकिन मेरा काम सच सामने लाना है।

 

मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले को लेकर समीर वानखेड़े को निशाना बनाने वाले नवाब मलिक ने अब सतर्कता समिति से वानखेड़े और एनसीबी गवाहों केपी गोसावी, प्रभाकर सेल और वानखेड़े के चालक माने के कॉल विवरण की जांच करने की मांग की है।

 

 

 

 

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.