मुखियाजी का घोषणा पत्र बना चर्चा का विषय, मैट्रिक के छात्रों को 11000 रुपया देने का वादा

मुखिया प्रत्याशी का घोषणा पत्र बना चर्चा का विषय, मैट्रिक के छात्रों को 11000 रुपया देने का वादा : मधुबनी जिले के मधवापुर प्रखंड में 15 नवम्बर को मतदान होना है, ऐसे में सभी प्रत्याशी दम ख़म के साथ अपनी किस्मत की जोर आजमाइश कर रहे हैं, इसी कड़ी में मधवापुर प्रखंड के तरैया पंचायत के मुखिया प्रत्याशी का घोषणा चर्चा का विषय बना हुआ है.

दरअसल तरैया पंचायत के मुखिया प्रत्याशी सतीश चन्द्र झा ने अपने पंचायत के छात्र छात्राओं के लिए बड़ी घोषणा की है, सतीश चन्द्र झा ने अपने पंचायत के सभी गांवों में दशवीं में पढने वाले छात्र छात्राओं को 11 हज़ार रूपये प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की है.

सतीश चन्द्र झा ने अपने इस घोषणा के पीछे के उद्देश्य को लेकर बताया कि हमारा तरैया पंचायत सुदूर देहात इलाकों में है, ऐसे में शिक्षा स्वास्थ्य सभी प्रकार की मुलभुत सुविधा को लेकर लोगों ओक्ज संघर्ष करना पड़ता है ऐसे में पंचायत के जो बच्चे दशवीं में प्रथम श्रेणी में पास होंगे उनके आगे की पढ़ाई के लिए 11000 रूपये का प्रोत्साहन मदद दिया जाएगा ताकि वह अपने जीवन में बेहतर शिक्षा व पद हासिल करें जिससे पंचायत का नाम रौशन हो.

वहीं मुखिया प्रत्याशी सतीश चन्द्र झा ने पंचायत के सभी गांव के बेटियों की शादी में भी आर्थिक मदद करने की घोषणा की है. जिसके तहत पंचायत के सभी गांव के जरूरतमंद परिवार में बेटी/बहन की शादी में हरसंभव आर्थिक मदद की जायेगी.

वहीं अन्य घोषणा में जैसे कि हर गाँव मे सहायता कार्यालय, ताकि छोटी बड़ी सरकारी/प्रशासनिक कार्य जिसे करवाने के लिए जनता को प्रखंड/अनुमंडल तक जाना पड़ता है, वह कम हो. पंचायत के सभी गांव में मुख्य सड़क एवं गली में स्ट्रीट लाइट के व्यवस्था. तरैया पंचायत अंतर्गत तरैया, अवारी, पतार, अन्दौली, पररी गाम में शत प्रतिशत गरीब को प्रधानमंत्री आवास. सम्पूर्ण पंचायत में रोड, गली में ढलाई सड़क के निर्माण. पंचायत में साक्षरता दर को 100% तक पहुँचाने के लिए विशेष पहल. नल जल योजना की तमाम खामियों को दूर करते हुए, सभी घर में शुद्ध पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित करना. पंचायत स्थित प्राथमिक एवं मध्य विद्यालय के मॉडल स्कूल में अपग्रेड करते हुए नियमित शिक्षा की व्यवस्था करना. पंचायत के बेरोजगार युवक/युवती हेतु स्व-रोजगार हेतु प्रशिक्षण की व्यवस्था पंचायत में ही करना.

सरकार द्वारा अनुमान्य राशन का ससमय एवं सही वजन सहित राशन का वितरण सुनिश्चित करवाना. पंचायत के किसानों को खेती में उन्नति के लिए कम लागत में अधिक उत्पादन, फसल सुरक्षा जैसे प्रशिक्षण एक्सपर्ट कृषि विशेषज्ञों द्वारा नियमित करवाना. पंचायत के सभी गांव में एक-एक तालाब व छठ घाट के निर्माण सहित अन्य सार्वजनिक एवं पूजा स्थान का सौंदर्यीकरण. पंचायत में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के माध्यम से विशेष चिकित्सकों द्वारा इलाज की व्यवस्था सहित स्वास्थ्य जाँच शिविर का नियमित आयोजन. प्रत्येक 3 महीने पर पंचायत में चल रही विकास योजना, आगामी योजना, समस्या, शिकायत को लेकर सार्वजनिक बैठक, बैठक हरेक बार विभिन्न गांवों में करने की घोषणा की है.

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.