खरना के लिए गंगाजल लाने गया बेटा, डूबने से मौत, मां की चीत्कार- कौन कसूरवा कइलियो ए छठी मइया

मां की चीत्कार- कौन कसूरवा कइलियो ए छठी मइया: खरना का प्रसाद के लिए गंगाजल लाने गया था बेटा, डूबने से मौत : पटना के शाहपुर में एक मां पूरे परिवार के लिए छठ महापर्व मना रही थी। मंगलवार को खरना की तैयारी चल रही थी। मां के लिए 14 साल का बेटा विक्की कुमार गंगाजल लाने शाहपुर घाट चला गया। उधर से गंगाजल नहीं बेटे की मौत की खबर आई। यह सुनते ही मां दहाड़ मारकर रोने लगी। बार-बार कहती रही कि कौन कसूरवा कइलियो ए छठी मइया।

 

 

 

दानापुर के चांदमारी के रहने वाले बबलू ठाकुर के घर खरने के प्रसाद के दिन मातम छा गया। बेटे के डूबने की सूचना से पूरा परिवार गमगीन हो गया। घर में छठ पर्व की खुशियां अचानक मातम में तब्दील हो गईं। यहां एक तरफ महिलाएं छठ पर्व की गीत गा रही थी। वहीं, बालक के डूब कर मरने की सूचना से पूरे घर में चीत्कार शुरू हो गई।

 

 

दोस्तों के साथ गया था गंगा घाट

पड़ोसियों के मुताबिक, बबलू ठाकुर के घर उनकी पत्नी छठ पर्व कर रही थी। मंगलवार की शाम विक्की अपने छोटे भाई और मोहल्ले के दो तीन लड़कों के साथ शाहपुर घाट गंगाजल लाने गया था। इस बीच विक्की गंगा में स्नान करने लगा। स्नान करने के दौरान विक्की और उसका छोटा भाई गहरे पानी में फंस गया और फिर डूबने लगा। दोनों को डूबता देख लोग शोर करने लगे।

 

छोटे भाई को निकाला

विक्की और उसके भाई को बचाने का प्रयास किया गया। गहरे पानी में फंस जाने के कारण विक्की की मौत डूबने से हो गई। लोगों ने छोटे भाई पवन को सुरक्षित गंगा से निकाल लिया। बाद में विक्की के शव को गंगा नदी से निकाला। शाहपुर थाना पुलिस ने विक्की के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए दानापुर अनुमंडल अस्पताल भेज दिया है।

 

 

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.