एक करोड़ का इनामी नक्सली और उसकी पत्नी गिरफ्तार, बिहार समेत छह राज्यों का प्रभारी था प्रशांत बोस

प्रशांत बोस के पास ईआरबी के सचिव के तौर पर बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, छत्तीसगढ़, असम समेत पूर्वोतर राज्यों का प्रभार था। साल 2004 में एमसीसीआई व पीडब्लूजी के विलय के पूर्व वह एमसीसीआई का प्रमुख था। विलय के बाद संगठन में कोटेश्वर राव को प्रमुख बनाया गया था। जबकि बतौर ईआरबी सचिव प्रशांत सेकेंड इन कमान था। झारखंड में पारसनाथ, सारंडा, ओडिशा और बंगाल के सीमावर्ती इलाके में प्रशांत ने ही संगठन को खड़ा किया था। प्रशांत मूलत: पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले के यादवपुर का रहने वाला है।

 

 

 

 

भाकपा माओवादियों के शीर्ष पोलित ब्यूरो के सदस्य प्रशांत बोस उर्फ किशन दा, उसकी पत्नी शीला मरांडी समेत चार माओवादियों को झारखंड पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। प्रशांत बोस माओवादियों के ईस्टर्न रीजनल ब्यूरो (ईआरबी) का सचिव भी है। वहीं प्रशांत की पत्नी शीला मरांडी भी माओवादियों की शीर्ष सेंट्रल कमेटी की सदस्य है। वह माओवादियों के फ्रंटल आर्गेनाइजेशन नारी मुक्ति संघ की प्रमुख भी है। झारखंड पुलिस ने प्रशांत बोस पर एक करोड़ का इनाम रखा है। प्रशांत पर झारखंड में 70 से अधिक माओवादी कांड दर्ज है।

 

 

 

 

झारखंड पुलिस के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय खुफिया एजेंसी आईबी ने प्रशांत बोस समेत अन्य के गिरिडीह के पारसनाथ से सरायकेला लौटने की जानकारी दी थी। इसके बाद सरायकेला पुलिस ने स्कार्पियो से प्रशांत बोस, शीला मरांडी, प्रशांत बोस के प्राटेक्शन दस्ता के एक सदस्य व कुरियर का काम करने वाले एक युवक को मुंडरी टोल नाका के पास से गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद चारों माओवादियों को गुप्त स्थान पर रखकर पूछताछ की जा रही है।

 

 

 

Input:Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.