UPSC और BPSC परीक्षा के लिए महिलाओं को 1 लाख रुपये तक दे रही बिहार सरकार, यहां करें आवेदन

मुख्यमंत्री नारी शक्ति योजना के तहत महिला एवं बाल विकास निगम के द्वारा सिविल सेवा प्रोत्साहन राशि की शुरुआत की गई है. यह राशि सामान्य वर्ग की महिला अभ्यर्थियों के लिए है. यूपीएससी और बीपीएससी की परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करने वाली महिला अभ्यर्थियों के लिए सरकार यह प्रोत्साहन राशि देने जा रही है. प्रारंभिक परीक्षा पास करने के बाद एकमुश्त यह राशि दी जाएगी ताकि मेंस की तैयारी अच्छे से की जा सके.

 

सामान्य वर्ग की महिलाएं इस लिंक से करेंआवेदन

“सिविल सेवा प्रोत्साहन राशि” योजना का लाभ लेने के लिए महिलाएं तीन दिसंबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकती हैं. इसके तहत इसमें 2021 में आयोजित केंद्र लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में पास महिलाएं आवेदन दे सकती हैं. बिहार सरकार की इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन fts.bih.nic.in/swdscholarship/default.html के माध्यम से दे सकते हैं. राज्य सरकार उन उम्मीदवारों को आर्थिक सहायता देगी, जो केंद्र लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) और राज्य लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की प्रारंभिक परीक्षा में पास होंगे.

 

 

 

 

मेंस परीक्षा की तैयारी के लिए मिलेगी राशि

महिला एवं बाल विकास की प्रबंध निदेशक हरजोत कौर बम्हरा ने कहा कि यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवार को 1,00,000 और बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवार को 50,000 रुपये दिये जायेंगे. यह पैसा एकमुश्त दिया जायेगा. ताकि अभ्यर्थी मेंस परीक्षा की तैयारी ठीक से कर सके.

 

पूरा पैसा सीधे उम्मीदवार के बैंक खाते में

सरकार पूरा पैसा सीधे उम्मीदवार के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भेजेगी. यह राशि उन महिला अभ्यर्थियों को मिलेगी जिनको राज्य सरकार की सदृश्य सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना के तहत कोई आर्थिक सहयोग या अनुदान पूर्व में नहीं मिला हो.

 

इनको मिलेगा लाभ

योजना का लाभ लेने के लिए जरूरी पात्रताओं में बिहार का निवासी होना, आवेदिका का सामान्य वर्ग की महिला होना और यूपीएससी और बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक है. इसमें आवेदन करने के लिए आवेदिका के पते का सबूत, पहचान का प्रमाण आवश्यक है इसके साथ ही आवेदिका का स्वयं का बैंक खाता और आधार होना भी जरूरी है.

 

 

Input DTW24

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.