श’राबबंदी कानून का सच, जहां हो रही है समीक्षा, बगल में बिखरी पड़ी हैं बोतलें, चखने का भी इंतजाम

जहां हो रही है शराबबंदी की समीक्षा, वहीं बगल में बिखरी पड़ी हैं दारू की बोतलें, चखने का भी था इंतजाम : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शराबबंदी कानून को लेकर आज समीक्षा बैठक कर रहे हैं. बैठक स्थल सचिवालय संवाद से मात्र कुछ कदम की दूरी पर कचरे में शराब की बोतले पायी गयी हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) आज बिहार में शराबबंदी कानून (Liquor Ban in Bihar) को लेकर समीक्षा बैठक कर रहे हैं. यह समीक्षा बैठक मुख्यमंत्री सचिवालय संवाद में हो रही है. संवाद के बगल में ही जो कचरा प्वाइंट है, वहां पर शराब की बोतलें बिखरी पड़ी हैं. वहीं पर चने भी बिखरे पड़े रहे हैं. उसके निकट ही एक होर्डिंग लगा है जिस पर शराब नहीं पीने को लेकर स्लोगन लिखा हुआ है. बिहार में 2016 से ही पूर्ण शराबबंदी कानून लागू है.

होम डिलीवरी जैसे कई बार मामले भी सामने आए है. विपक्ष लगातार शराबबंदी कानून को लेकर सरकार पर हमला भी करता रहा है. हाल ही में जहरीली शराब के सेवन से 40 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. अब मुख्यमंत्री इन शिकायतों और घटनाओं के बाद शराबबंदी कानून की समीक्षा करने के लिए आज बैठक करेंगे.देखें वीडियोउससे पहले इस प्रकार से शराब की बोलत मिलने से किरकिरी हो रही है. जहां समीक्षा बैठक होना है,

उसके बगल में ही कुछ कदम की दूरी ही शराब की बोतलें बिखरी पड़ी हैं. यह शराबबंदी कानून की पोल खोलने के लिए काफी है.जिस तरह के हालात बिहार में दिख रहे हैं, इससे कहा जा सकता है कि शराबबंदी कानून पूरी तरह से फेल है. अब देखना यह है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज शराबबंदी कानून को लेकर क्या निर्णय लेते हैं. फिलहाल इसको लेकर समीक्षा बैठक कुछ देर में शुरू होने वाली है.

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.