रिंटु सिंह हत्याकांड में मंत्री के भतीजे के घर चिपकाया इश्तेहार, अब होगी कुर्की-जब्ती

जिप सदस्य अनुलिका सिंह के पति कांग्रेस नेता सह पूर्व जिप सदस्य विश्वजीत कुमार उर्फ रिंटु सिंह एवं कुख्यात अपराधी बिटू सिंह के भाई बेनी सिंह के हत्याकांड के मुख्य आरोपी आशीष सिंह उर्फ अटिया, सुदेश सिंह, श्यामल सिंह एवं मिठू सिंह सहित चार लोगों की गिरफ्तारी नहीं होने के कारण उसके घर इस्तेहार चिपकाया गया।

 

सरसी में तनाव

बनमनखी एसडीपीओ कृपाशंकर आजाद ने बताया कि न्यायालय के द्वारा दोनों मुख्य नामजद अभियुक्तों के खिलाफ वारंट और इश्तेहार चिपकाने का आदेश निर्गत किया गया है। सोमवार की देर शाम तक दोनों मुख्य अभियुक्तों के घर पर इश्तेहार चिपकाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि पुलिस की टीम के द्वारा गुप्त सूचना के आलोक पर पांच से छह जगहों पर छापेमारी की गई है। लेकिन अभी फिलहाल कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। उन्होंने बताया कि यदि जल्द ही नामजद अभियुक्तों के द्वारा गिरफ्तारी नहीं दी जाएगी तो उनके घरों की कुर्की-जब्ती की जाएगी। उन्होंने बताया कि वैज्ञानिक अनुसंधान के जरिए भी आरोपियों तक पहुंचने की कोशिश की जा रही है। इस मामले में कई लोगों से पूछताछ भी की गई है। वहीं कुछ संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की जा रही है उन्होंने बताया कि इस मामले को लेकर लगातार एसपी के द्वारा मॉनिटरिंग की जा रही है और अलग-अलग पुलिस की टीम अभियुक्तों की गिरफ्तारी को लेकर छापेमारी कर रही है। मृतक के घरों पर भी सुरक्षा व्यवस्था की गई है ।

 

 

 

अटिया की तलाश में छापे

बनमनखी एसडीपीओ कृपाशंकर आजाद ने बताया कि मरकानी सिंह, श्यामल सिंह, आशीष सिंह उर्फ अटिया और मिठ्ठू सिंह के खिलाफ बेनी सिंह हत्याकांड मामले में फरार रहने के आलोक में कुर्की जब्ती के लिए इश्तेहार चिपकाया गया है। न्यायालय ने आशीष सिंह उर्फ अटिया और सुदेश सिंह के खिलाफ वांरट निर्गत किया है। जगह-जगह छापेमारी की जा रही।

 

हाईलाट्स

● बेनी सिंह हत्याकांड मामले में नामजद अभियुक्त आशीष सिंह उर्फ अटिया के घर की होगी कुर्की-जब्तीे

 

● मां के द्वारा बहलाने के बाद भी पिता से मिलने की जिद कर रहे बच्चे

 

 

● इश्तेहार चिपकाने का आदेश न्यायालय ने निर्गत किया था

 

 

निष्पक्ष जांच की मांग

पूर्णिया जिला पार्षद रईसुल आजम उर्फ बाबू भाई ने रिंटू सिंह हत्या की घोर निंदा की है। उन्होंने कहा है कि इस घटना की निष्पक्ष जांच कराई जाए। ये जांच तभी संभव हो सकती है जब बिहार सरकार आरोपित मंत्री को उनके पद से हटाए। वर्ना मंत्री अपने पद और रुतबे का इस्तेमाल कर जांच को प्रभावित कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले में पीड़ित परिवार बिहार की मंत्री का नाम ले रहा है।

 

बेटी श्रेया और तीन साल का बेटा तेजस बार-बार खोज रहे पिता को

पूर्व जिप सदस्य विश्वजीत सिंह उर्फ रिंटू सिंह के दोनों बच्चे अपने पिता को प्रतिदिन ढूंढ रहे हैं। परिजनों को बहाना बनाते नहीं बन रहा है आखिर बच्चों को उनके पिता के बारे में क्या जवाब दें। बताया जाता है कि पांच साल की बेटी श्रेया और तीन साल का पुत्र तेजस प्रतिदिन सुबह से लेकर देर शाम तक पापा को ढूंढ रहा है। मां से कई तरह के सवाल जवाब कर रहा है। कई बार तो उनका पुत्र तेजस यह कहकर मां को कोसने लगता है कि यदि पापा कार में बैठे रहते तो उनकी गोली मारकर हत्या नहीं की जाती। वहीं फिर थोड़ी देर के बाद जब वह इस बात को भूल जाता है तो पापा को ढूंढने लगता है। इस संदर्भ में पूर्व सदस्य की पत्नी अनुलिका सिंह ने बताया कि बच्चों को जवाब देते नहीं बन पा रहा है कि क्या कहें कि उनके पापा कहां चले गए। उन्होंने बताया कि बच्चों की आंखें हर वक्त अपने पिता का साया खोज रहा है, लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद भी वह उनके पिता को अब उनके सामने लाकर नहीं दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को देखकर ऐसा लगता है कि आखिर पिछले जन्म में इन लोगों ने क्या गुनाह किया था जो दुश्मनों ने ऐसी सजा दे दी। उनके पति की निर्मम हत्या कर दी। अनुलिका सिंह ने बताया कि पूरे परिवार को अभी भी सुरक्षा का भय सता रहा है। पुलिस की टीम के द्वारा यह आश्वासन दिया गया था कि उन्हें सुरक्षा मुहैया करवाई जाएगी।

 

हत्या में मंत्री की संलिप्तता का आरोप

पूर्व जिला परिषद सदस्य रिंटू सिंह की पत्नी ने इस हत्याकांड में मंत्री लेसी सिंह पर अंजाम देने का आरोप लगाया है। आपोप है कि रिंटू सिंह की हत्या की साजिश मंत्री ने रची। मामले का मुख्य अभियुक्त लेसी सिंह का भतीजा है जिसके बारे में रिंटू सिंह ने थाने में पहले ही आवेदन दे रखा था। विवादों के बीच मंत्री लेसी सिंह ने सफाई दी है। उन्होंने कहा कि जिसकी हत्या हुई है उस पर कई मुकदमे दर्ज हैं। भतीजे से उनका कोई संबंध नही है।

 

 

Input: DTW24

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.