महज 13 साल की उम्र में इस लड़की ने अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी की ‘फतह’, ज्वालामुखीयों से भरा है माउंट किलिमंजारो

पटना : अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो को 13 साल की एक लड़की ने फतह किया है। यह पर्वत दुनिया का सबसे ऊंचा एकल मुख्य पर्वत है। यहां किबो, मावेंजी और शिरा जैसे सबसे बड़े ज्वालामुखी हैं। इसके बावजूद अपने हौसलों की बदौलत हैदराबाद की मुरिकी पुलकित हसवी ने इस पर्वत की सबसे ऊंची चोरी पर अपने विश्वास का झंडा लहराया। मुरिकी पुलकित ने बताया कि उनका यह अनुभव किसी सपने से कम नहीं है। सब कुछ इतनी आसानी से हो गया, जितना मैंने भी नहीं सोचा था। मुरिकी ने कहा कि बहुत रोमांचक सफर रहा। यह भी बताया कि अब वह दुनिया की 6 अन्य ऊंची चोटियों को फतह करना चाहती हैं।

5895 मीटर ऊंचा है माउंट किलिमंजारो
मुरिकी पुलकिता ने बताया कि माउंट किलिमंजारो पर्वत 5895 मीटर ऊंचा है। यहां हर मौसम का मिजाज अच्छा और बुरा होता है। इस पर्व पर चढ़ना तीन महीने पहले शुरू किया था। अप्रैल में मुरिकी एवरेस्ट बेस कैंप तक भी जा चुकी हैं। यह पर्वत अफ्रीकी देश तंजानिया में है। मुरिकी के अनुसार जब वह एवरेस्ट बेस कैंप पर पहुंची थीं, तब उनके मन में ख्याल आया कि क्यों न दुनिया की सभी सातों ऊंची चोटियों को फतह किया जाए। फिर उन्होंने इस ख्याल को पूरा करने के लिए तैयारियां शुरू कर दीं। मुरिकी पुलकिता ने बताया कि ऐसे कामों के लिए मानसिक तौर पर मजबूत होना बेहद जरूरी है। इसके लिए मैंने योग और ध्यान करना शुरू किया। आगे कहती हैं कि अब मैं 2024 से पहले दुनिया की सभी सात ऊंची चोटियों पर चढ़ाई करने की तैयारी में हूं।

सात साल का विराट भी कर चुका है कारनामा
हैदराबाद का ही सात साल का विराट ऐसा कारनामा कर चुका है। वह इसी साल मार्च में किलिमंजोर पर्वत पर चढ़कर तिरंगा लहराया था। उसने 2 मार्च से पर्वत पर चढ़ने की शुरुआत की थी। निरंतर पांच दिनों तक पर्वत पर चढ़ाई के बाद वह सबसे ऊंचे प्वाइंट पर पहुंचा था। दिलचस्प बात है कि विराट ने पर्वतारोहण की कोई ट्रेनिंग भी नहीं ली थी।

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.