CM नीतीश के आदेश का खुलेआम उल्लंघन, शराब मिलने के बाद भी किसी दारोगा को नहीं किया गया सस्पेंड

PATNA : CM नीतीश के आदेश का खुलेआम उल्लंघन, शराब मिलने के बाद भी किसी दारोगा को नहीं किया गया सस्पेंड=यह बिहार है। यहां जो हो रहा है वही सही है। ताजा मामाला शराबबंदी कानून को लेकर सामने आया है। बताया जा रहा है कि पूरे प्रदेश में शराबबंदी कानून पर सीएम नीतीश के आदेश का उल्लंघन हो रहा है। आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला….

 

19 जगह शराब बनी, किसी दारोगा पर कार्रवाई नहींं:CM के आदेश के बाद भी सेफ हैं थानेदार, शराब मिलने पर करना है सस्पेंड : जहरीली शराब से मौत के मातम के बीच CM नीतीश कुमार के आदेश की हकीकत पुलिस के आंकड़ों में दिख रही है। CM का आदेश है कि जिस थाना क्षेत्र में शराब की खेप बरामद होगी, वहां का थानेदार सस्पेंड किया जाएगा।

 

 

 

 

7 दिन के आंकड़ों पर गौर करें तो 822 मामलों में 903 शराबियों को पकड़ा गया और 46 हजार लीटर से ज्यादा शराब पकड़ी गई। 19 जगहों पर भट्ठियां तोड़ी गई, लेकिन पुलिस पूरी तरह से सेफ है। अब तक राज्य में एक भी थानेदार पर गाज नहीं गिरी है।

 

बिहार पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक 15 से 21 नवंबर के बीच पूरे राज्य में शराबबंदी कानून को लेकर विशेष छापेमारी अभियान चलाया गया है। इस दौरान पुलिस ने कुल 822 मामले दर्ज किए हैं, जिसमें 903 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस की इस छापेमारी में लगभग 46,496 लीटर देसी और विदेशी शराब बरामद की गई है। 7 दिन में 122 दोपहिया और तीन-पहिया वाहनों के साथ 28 चार-पहिया वाहन और 7 ट्रक, यानि कुल 157 वाहनों को जब्त किया गया है।

 

पुलिस की इस कार्रवाई से साफ है कि राज्य में ट्रकों से शराब की खेप आ रही है। पुलिस का यह भी दावा है कि छापेमारी के दौरान 1,49,910 रुपए भी बरामद किए गए हैं। पुलिस की कार्रवाई में 19 भट्ठियों को तोड़ा गया, लेकिन क्षेत्र के थानेदारों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

 

आंकड़ों के मुताबिक राज्य के 18 जिलों; पटना, भागलपुर, खगड़िया, रोहतास, पूर्णिया, लखीसराय, वैशाली, शिवहर, सहरसा, मधुबनी, बांका, जमुई, सिवान, गया, गोपालगंज, नवादा, रेल जिला जमालपुर एवं रेल जिला कटिहार में 100 लीटर से ज्यादा शराब की बरामदगी की गई है। इसके बाद भी किसी जिले में कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

 

 

 

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.