BIHAR में समग्र शिक्षा पर खर्च होंगे 4441 करोड़ रुपये, नीतीश सरकार ने पेश किया 20531 करोड़ का अनुपूरक बजट

बिहार (Bihar) विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन साेमवार काे नीतीश सरकार ने 20 हजार 531 करोड़ का द्वितीय अनुपूरक बजट पेश किया, जिसमें समग्र शिक्षा अभियान पर 4441 करोड़ खर्च करने का प्रावधान किया गया है. सदन की स्वीकृति मिलने के बाद राशि जारी हाेगी. अनुपूरक बजट में वार्षिक योजना मद में 12 हजार 120 करोड़, स्थापना और प्रतिबद्ध मद में 8 हजार 373 करोड़ रुपये खर्च होंगे. केंद्रीय क्षेत्र स्कीम मद में 37 करोड़ 47 लाख खर्च होंगे.

 

बिहार विधानसभा में उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने 20 हजार 531 करोड़ का द्वितीय अनुपूरक व्यय विवरणी पेश किया. सदन में पेश व्यय-विवरणी के अनुसार सबसे अधिक राशि 4441 करोड़ समग्र शिक्षा अभियान मद में खर्च होंगे. जिसमें बालक-बालिका प्रोत्साहन, साइकिल और छात्रवृत्ति के लिए भी राशि का प्रावधान है. 235 करोड़ मध्याह्न भोजन योजना पर खर्च करने का प्रावधान किया गया है. 635 करोड़ सीएम बालिका प्रोत्साहन योजना, 433 करोड़ सीएम बालिका स्नातक प्रोत्साहन और 149 करोड़ राज्य के विश्वविद्यालयों के विकास पर खर्च होंगे.

 

शिक्षा के बाद सरकार ने स्वास्थ्य पर भी ध्यान केंद्रित किया है. 242 करोड़ राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, 150 करोड़ त्वरित सिंचाई लाभ और बाढ़ प्रबंधन, 54 करोड़ 54 लाख पीएम आवास ग्रामीण योजना, 28 करोड़ 75 लाख पीएम कृषि सिंचाई योजना तो 25 करोड़ 43 लाख पॉक्सो एक्ट के तहत फास्ट ट्रैक स्पेशल कोर्ट के गठन पर खर्च होगा. विधान परिषद में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने व्यय-विवरणी पेश किया.

 

राज्य सरकार पटना मेट्रो के निर्माण के लिए 1000 करोड़ की राशि जल्द जारी करेगी. पटना मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने जिला प्रशासन को आईएसबीटी के सामने मेट्रो का डिपो बनाने के लिए 76.645 एकड़ जमीन अधिग्रहण का प्रस्ताव दिया है. जिला प्रशासन के मुताबिक 23 दिसंबर तक किसानों से दावा-आपत्ति लिया जाएगा. इसके बाद किसानों काे मुआवजा भुगतान होगा। इस पर 790 करोड़ की राशि खर्च होगी.

 

सरकार से राशि मिलने के बाद किसानों के बीच जनवरी से मुआवजा वितरण हाेगा. इसके साथ ही पटना मेट्रो को जमीन का हस्तांरण हाेगा. पटना मेट्रो रेल प्रोजेक्ट की कुल लागत 13,366 करोड़ है. 32.487 किमी लंबाई में दो कॉरिडोर का निर्माण करना है. पहला कॉरिडोर दानापुर से मीठापुर 17.93 किमी और दूसरा कॉरिडोर पटना रेलवे स्टेशन से आईएसबीटी तक 14.55 किमी है. इसको अक्टूबर 2024 में चालू करने का लक्ष्य है.

 

input:dtw24 news

 

 

 

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.