देश के पहले CDS थे जनरल बिपिन रावत, पिता से विरासत में मिली थी बहादुरी और देशभक्ति का जज्बा

CDS Bipin Rawat Helicopter crash: देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) बिपिन रावत की आज अपनी पत्नी मधुलिका रावत समेत एक विमान दुर्घटना में मौत हो गई. वो सेना के हेलीकॉप्टर से अपनी पत्नी और सेना के कई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने जा रहे थे. सीडीएस बिपिन रावत ने सेना को अपना लंबा समय दिया, जिस दौरान उन्हें काफी सारे सम्मानों से भी नवाजा गया.

सीडीएस बिपिन रावत (Bipin Rawat) का जन्म 16 मार्च, 1958 को उत्तराखंड के पौरी में गढ़वाली परिवार में हुआ था. उनका परिवार कई पीढ़ियों से सेना में देश की सेवा करता आया है. रावत पहली बार 16 दिसंबर, 1978 में 11th Gorkha Riffles की पांचवीं बटालियन में कमीशन हुए थे. उनके पिता लक्ष्मण सिंह रावत भी कभी इसी बटालियन का हिस्सा थे. वह सेना में लेफ्टिनेंट जनरल के पद पर जाकर रिटायर हुए थे.

पिता से मिली देशभक्ति

रावत को भी देशभक्ति और बहादुरी विरासत में मिली थी. उन्होंने उरी, जम्मू और कश्मीर, सोपोर आदि जगहों पर सेना में मेजर, कर्नल और ब्रिगेडियर आदि पोस्ट पर सालों तक अपनी सेवा दी. 1 सितंबर 2016 को उन्होंने सेना में उप-प्रमुख (Vice Chief of Army Staff) बनाया गया. जिसके बाद सरकार ने देशा का 27वां आर्मी चीफ (Chief of the Army Staff) बनाया.

देश के पहले सीडीएस

रावत की कुशलता और तजुर्बे को देखते हुए सरकार ने उन्हें 1 जनवरी, 2020 को देश का पहला CDS नियुक्त किया था. प्रधानमंत्री मोदी ने 2019 में लाल किले के प्राचीर से स्वतंत्रता दिवस के मौके पर तीनों सेनाओं के अध्यक्ष के रूप में एक चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) पोस्ट बनाने का एलान किया था. इससे पहले देश में CDS जैसा कोई पोस्ट नहीं था.

क्या होता है CDS

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) वह पोस्ट है, जो सीधे सरकार को सेना के बारे में सलाह देता है. इसमें नौसेना, वायु सेना और थल सेना तीनों ही सम्मिलित होती हैं. लंबे समय से इस बात को महसूस किया जा रहा था कि एक ऐसा पद होना चाहिए, जो तीनों ही सेनाओं के बीच एक कड़ी का काम करे. इसके लिए सरकार ने CDS की स्थापना की. जनरल बिपिन रावत देश के पहले CDS चुने गए थे.

मिले हैं कई सेना मेडल

सेना में रहने हुए सीडीएस बिपिन रावत को कई सारे मेडल से सम्मानित किया गया था, जिसमें परम विशिष्ट सेवा मेडल, उत्तम युद्ध सेवा मेडल, अति विशिष्ठ सेवा मेडल, युद्ध सेवा मेडल, सेना मेडल और विशिष्ट सेवा मेडल आदि शामिल हैं.

 

 

Input: Zeebiz

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.