Bihar में भ्रष्टाचार का नया ‘आयाम’, हाजीपुर के श्रम अधिकारी के घर से बोरी व बैग में भरे मिले करोड़ों रुपये

राज्य में हर तरफ भ्रष्टाचार का आलम है. अभी विश्वविद्यालयों और कुलपतियों के भ्रष्टाचार का मामला छाया ही हुआ है, तो वहीं भ्रष्ट अफसरों की पोल भी खुलने लगी है. विजिलेंस टीम ने हाजीपुर के श्रम अधिकारी के ठिकानों पर छापेमारी की है तो वहां से बोरियों में कैश बरामद हुआ है. जानकारी के मुताबिक, पटना में लेबर इंफोर्समेंट ऑफिसर दीपक कुमार शर्मा के आवास पर यह छापेमारी की गई है.

सोने के बिस्किट और हीरे-मोती भी मिले
जानकारी के मुताबिक, हाजीपुर के श्रम अधिकारी दीपक कुमार शर्मा के ठिकानों पर शनिवार को ताबड़तोड़ छापेमारी की गई है. सामने आया है कि पटना के दीघा क्षेत्र के महावीर कॉलोनी स्थित उनके आवास से बोरी में भरे रुपये मिले हैं. टीम ने जब बोरी खोली तो 2 करोड़ से अधिक राशि केवल बैग और बोरी से जब्त की गई है. टीम ने पटना, हाजीपुर और मोतिहारी स्थित ठिकानों पर निगरानी की और एकसाथ रेड मारी.

 

टीम की आंखें भी रह गईं फटीं
छापेमारी के दौरान पटना स्थित आवास से जो हकीकत सामने आई उसे देख विजलेंस की टीम भी हैरान रह गई. छापेमारी के दौरान बैग और बोरी में रुपये भरे हुए मिले. घर मे सोने के बिस्किट हीरे मोती के गहने, दर्जनों डेबिट क्रेडिट कार्ड और जमीन से जुड़े कई डीड भी विजलेंस को मिली है.

नोटों की गिनती जारी
बताया जा रहा है कि बैग और बोरे से डेढ़ करोड़ रुपये से अधिक नोट पाए गए हैं. अभी नोटों की गिनती जारी ही है. नोटों की संख्या इतनी अधिक है कि गिनती के लिए मशीन मंगानी पड़ी है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, निगरानी विभाग को इस बात की सूचना थी कि अधिकारी दीपक कुमार ने अवैध तरीके से काफी धन इकट्ठा किया है. अधिकारी हाजीपुर से पहले कैमूर में पदस्थापित रहे. वहां मजिस्ट्रेट के रुप में चेकपोस्ट पर भी ड्यूटी की. इस दौरान जमकर माल उगाही की गई.

इससे पहले रोहतास के भू अर्जन पदाधिकारी और प्रभारी नगर आयुक्त राजेश गुप्ता के ठिकानों पर भी छापेमारी की गई थी. अवैध तरीके से अर्जित की गई संपत्ति का खुलासा चौंकाने वाला था. निगरानी ने आरोपित अधिकारी की पत्नी अनीता गुप्ता का एक बैंक लॉकर शुक्रवार को खोला. इस लॉकर से 8 लाख नकद के अलावा 10 लाख से अधिक के आभूषण बरामद किए गए हैं.

 

 

Input: Zee news

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.