शहीद जवान की बहन की शादी में पहुंचा पूरा बटालियन, जयामाला से पहले चारों तरफ मंडप की चुनरी पकड़ी

NEW DELHI …जब CRPF जवानों ने पकड़ा शहीद की बहन का मंडप: आतंकी हमले में शहीद हुए थे शैलेंद्र प्रताप : देश के सबसे बड़े केंद्रीय अर्धसैनिक बल ‘सीआरपीएफ’ के जवानों ने अपने शहीद साथी शैलेंद्र प्रताप सिंह की बहन की शादी में मंडप पकड़ने की रस्म अदा की। कुछ जवान वर्दी में थे, बाकी सादे कपड़ों में थे। जैसे ही बल के जवानों की टोली रायबरेली स्थित शैलेंद्र सिंह के घर पर पहुंची, तो विवाह समारोह में मौजूद लोग भावुक हो गए। दुल्हन के फेरों पर जाते समय सीआरपीएफ जवानों ने मंडप की चुनरी पकड़ी। उस वक्त कई लोगों की आंखें भर आईं।

 

 

 

 

 

पिछले साल शैलेंद्र प्रताप सिंह, जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में आतंकियों से मोर्चा लेते हुए शहीद हो गए थे। साल 2008 में सीआरपीएफ में भर्ती हुए शैलेंद्र प्रताप, बल की 110वीं बटालियन में तैनात थे। उनकी कंपनी सोपोर में थी। आतंकियों से मोर्चा लेते हुए शैलेंद्र प्रताप सिंह को गोली लगी थी। शहीद शैलेंद्र प्रताप सिंह का पार्थिव शरीर जब घर पहुंचा, तो हर किसी की आंख नम हो गई। शहीद की अंतिम यात्रा में हजारों लोग उमड़ पड़े। उनके परिवार में पिता नरेंद्र बहादुर सिंह, मां सिया दुलारी सिंह, पत्नी चांदनी उर्फ दीपा, बहनें शीला, प्रीती, ज्योति हैं। शैलेंद्र प्रताप सिंह का नौ साल का बेटा कुशाग्र है। तब दो बहनों का विवाह हो चुका था।

 

 

 

 

शैलेंद्र प्रताप सिंह के साथ ड्यूटी देने वाले उसके साथी आसपास ही तैनात थे। जब उन्हें मालूम हुआ कि शैलेंद्र की छोटी बहन की शादी है, तो उन्होंने दूसरे जवानों को सूचित कर दिया। सोमवार को हुई शादी में जब एकाएक डेढ़ दर्जन सीआरपीएफ जवान पहुंचे तो लोग हैरान रह गए। जवानों को विवाह समारोह में देखकर शैलेंद्र के परिजनों की आंखें भर आईं। जब मंडप पकड़ने की बारी आई तो सीआरपीएफ जवान आगे आ गए। उन्होंने चारों तरफ से मंडप की चुनरी पकड़ी। शैलेंद्र की बहन, दुल्हन के वेश में मंडप के नीचे पहुंची तो माहौल और ज्यादा भावुक हो गया। सीआरपीएफ जवानों द्वारा उठाए गए मंडप के नीचे दुल्हन, फेरों की तरफ कदम रख रही थी।

 

 

 

 

Input: Daily bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.