100 की स्पीड से दौड़ेगी ट्रेन, तेजस-राजधानी 110 की गति से गुजरेगी, बिहार की दूसरी रेल सुरंग तैयार

बिहार की दूसरी रेल सुरंग तैयार, अब 100 की स्पीड से दौड़ेगी ट्रेन, तेजस राजधानी एक्सप्रेस 110 की गति से गुजरेगी : पटना : बिहार का दूसरा रेल सुरंग बनकर तैयार हो गया है। अंग प्रदेश के लोगों को इसका सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा। बांका, मुंगेर, लखीसराय, भागलपुर के यात्रियों का काफी समय बचेगा। भागलपुर से यात्रियों को पटना और पटना से भागलपुर के यात्रियों को जबरदस्त फायदा होगा, क्योंकि जमालपुर रेल सुरंग बन जाने के बाद अब ट्रेन 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने लगेगी।

 

 

 

 

जमालपुर में दो रेल सुरंग है। पहले रेल सुरंग से यह 20 मीटर की दूरी पर दूसरी रेल सुरंग है। इसे अंग्रेजों को जमाने में बनाया गया था। दूसरी रेल सुरंग ऑस्ट्रेलिया की तकनीक से बनाई गई है। मालदा टाउन रेल मंडल अंतर्गत भागलपुर से जमालपुर के बीच रेल लाइन है, लेकिन जमालपुर और बरियारपुर के बीच एक रेल सुरंग होने के चलते ट्रेन की स्पीड पर ब्रेक लग जाया करती थी। अभी ट्रेन एक ही लाइन से निकला करती थी।

 

 

 

 

अब दूसरी सुरंग के बन जाने के बाद ट्रेन आसानी से अप और डाउन कर सकेगी। दूसरी रेल सुरंग चालू होने के बाद ट्रेनें 80 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ेगी। फिलहाल एक सुरंग होने के चलते ट्रेनें तीन किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गुजरती हैं।

 

तेजस राजधानी एक्सप्रेस आनंद विहार से भागलपुर तक जाएगी : इस रेल सुरंग के शुरू होने के साथ ही क्षेत्रवासियों को एक और बड़ी सौगात मिल जाएगी। नए साल से इस रेल सुरंग से पहली बार राजधानी तेजस एक्सप्रेस 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गुजरेगी। इस हिसाब से यात्रियों का दो-तीन घंटे का समय आराम से बचेगा। गौरतलब है कि अगरतला-आनंद विहार तेजस राजधानी एक्सप्रेस अब मालदा टाउन होते हुए भागलपुर और जमालपुर के रास्ते से होकर आनंद विहार तक पहुंचेगी।

 

रेल सुरंग में बिजली का काम पूरा

नई रेल सुरंग के निर्माण कार्य के बाद इसके अंदर विद्युतीकरण का भी काम पूरा कर लिया गया है। कार्यकारी एजेंसी के अनुसार इस माह के अंत तक सभी काम पूरे कर लिए जाएंगे। इसके बाद दिसंबर के अंतिम हफ्ते में ही मुख्य संरक्षा आयुक्त 24 कोच की ट्रेन इस सुरंग के अंदर से दौड़ाकर सुरक्षा मानकों की जांच करेंगे। मुख्य संरक्षा आयुक्त की जांच के एक सप्ताह बाद एनओसी मिलने पर पूर्व रेलवे मुख्यालय और मालदा रेल मंडल को मंजूरी का प्रस्ताव भेज दिया जाएगा, जिसके बाद दोनों दिशाओं से इन दो सुरंगों के माध्यम से ट्रेनों का आवागमन चालू कर दिया जाएगा।

 

 

 

 

Input: Daily Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.