पाकिस्तान में पहली बार हिंदू महिला बनी अफसर, 27 साल की सना ने CSS की परीक्षा में लहराया परचम

PAKISTAN : 27 साल की सना पहली हिंदू अफसर; सबसे कठिन सीएसएस की परीक्षा में पहली ही बार में कामयाब, सना रामचंद गुलवानी ने मई में पास की थी परीक्षा, मुहर अब लग : पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार कोई हिंदू युवती देश की सबसे कठिन परीक्षा को पास करने में कामयाब हो गई है। 27 साल की डॉक्टर सना रामचंद गुलवानी ने सेंट्रल सुपीरियर सर्विसेस (सीएसएस) की परीक्षा को मई में ही पास कर लिया था। लेकिन अब उनकी नियुक्ति पर भी मुहर लग गई है। सना मूल रूप से सिंध प्रांत के शिकारपुर की रहने वाली हैं।

उपलब्धि हासिल करने पर सना ने कहा- ‘मैं बहुत खुश हूं। जो मैं चाहती थी, वो मैंने हासिल कर लिया है। मैंने इस परीक्षा को पास करने की ठान ली थी।’ सना बताती हैं- ‘माता-पिता नहीं चाहते थे कि मैं प्रशासनिक क्षेत्र में जाऊं। उनका सपना मुझे मेडिकल प्रोफेशन में ही देखने का था। पर मैंने ये दोनों ही टारगेट एक बार में पूरे किए।’ सना शिकारपुर के सरकारी स्कूल में पढ़ी हैं। उन्होंने 5 साल पहले शहीद मोहतरमा बेनजीर भुट्टो मेडिकल यूनिवर्सिटी से बैचलर ऑफ मेडिसिन की डिग्री ली थी। यूरोलॉजी में उनके पास मास्टर डिग्री है। इसके बाद वो फेडरल पब्लिक सर्विस कमीशन की तैयारी में जुट गई थीं। पढ़ाई को लेकर सना कहती हैं कि सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों को कमजोर मत समझिए। ये छात्र भी हर कामयाबी हासिल कर सकते हैं, जो एलीट स्कूलों के छात्र हासिल कर सकते हैं। सना फिलहाल, कराची में रहती हैं।

सीएसएस: सिर्फ 2% प्रतिभागी ही कामयाब हो सके
पाकिस्तान में सीएसएस की परीक्षा सबसे कठिन मानी जाती है। पाक में इसके जरिए ही प्रशासनिक सेवाओं में नियुक्तियां होती हैं। इसमें इस साल कुल 2% प्रतिभागी ही कामयाबी हासिल कर पाए। कठिन परीक्षा को लेकर सना ने छात्रों को संदेश देते हुए कहा- ‘वे खुद पर भरोसा रखें और ये सोचें कि वो कोई भी परीक्षा पास कर सकते हैं।’

input:daily bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.