मधुबनी में कोर्ट का अजीब फैसला, महादलित परिवार के बच्चों को मुफ्त दूध पिलाने की शर्त पर जमानत

महादलित परिवार के पांच बच्चों को मुफ्त में दूध पिलाने की शर्त पर मिली जमानत, तीन दिन में 3 अनोखे फैसले :

 

 

व्यवहार न्यायालय झंझारपुर के एडीजे अविनाश कुमार प्रथम की कोर्ट ने गुरुवार को एक और अनोखा फैसला सुनाया है. कोर्ट ने मारपीट के मामले के दो अभियुक्तों को इस शर्त जमानत दी है कि वे छह माह तक महादलित परिवार के पांच बच्चों को आधा-आधा लीटर दूध मुफ्त में देंगे. साथ ही दूध देने का प्रमाण पत्र मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य या विधायक से लेकर कोर्ट में जमा करेंगे.

 

मारपीट कर चाकू से जख्मी करने का आरोप

अभियुक्तों के अधिवक्ता परशुराम मिश्रा के अनुसार लखनौर आरएस ओपी क्षेत्र के भगवान कुमार झा ने आरोपित शिवजी मिश्रा व अशोक मिश्रा सहित चार पर मारपीट कर चाकू से जख्मी करने का आरोप लगाया था. मामले में शिवजी मिश्र व अशोक मिश्र बीते मार्च से न्यायिक हिरासत में थे. कोर्ट में उनके ओर से नियमित जमानत याचिका दाखिल की गयी थी.

 

ऐसे लिया अदालत ने फैसला

कोर्ट में बहस के दौरान दोनों अभियुक्तों के बारे में गाय पालने की जानकारी एडीजे को मिली. कोर्ट को अभियुक्त शिवजी मिश्रा के तीन गाय पालने व अशोक मिश्र के दो गाय पालने की जानकारी हुई. यह जानकारी मिलने के बाद एडीजे ने शिवजी मिश्र को तीन महादलित परिवारों के बच्चों को आधा-आधा लीटर दूध मुफ्त में देने की शर्त पर जमानत दी. इसके अलावा अशोक मिश्र को भी दो दलित परिवारों के पांच साल से कम उम्र के बच्चों को आधा-आधा लीटर दूध मुफ्त में देने का आदेश दिया. साथ ही दस-दस हजार के दो जमानतदार पर दोनों को जमानत दी. इसका प्रमाण पत्र जनप्रतिनिधि से लेकर जमा करने का निर्देश भी दिया.

Input: Daily Bihar

 

 

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.