बच्चों के बुखार से मां-पिता दहशत में- सारे हॉस्पिटल हाउसफुल, सर्दी, बुखार, शरीर दर्द मुख्य लक्षण

बिहार में बच्चों में वायरल संक्रमण फीवर में शुरुआती स्पाइक ने माता-पिता के बीच दहशत पैदा कर दी है। फीवर आते ही लोग अपने बच्चों को लेकर अस्पताल ले जा रहे हैं, लेकिन अस्पतालों की हालत में थोड़ा भी सुधार नहीं है। लोगों को डर सता रहा है कि कहीं यह कोरोना आक्रमण की तीसरी लहर तो नहीं है। रक्त के नमूने एकत्र करने के लिए माइक्रोबायोलॉजिस्ट और फ्लेबोटोमिस्ट सहित डॉक्टरों की टीमों को बुधवार को गोपालगंज और सीवान भेजा गया। एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम (आईडीएसपी) इकाई के डॉक्टरों ने मंगलवार को मुजफ्फरपुर का दौरा किया, जहां वायरल बुखार वाले बच्चों में स्पाइक देखा गया है। राज्य निगरानी अधिकारी ने बुधवार को पटना में नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एनएमसीएच) और पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) दोनों में स्थिति का जायजा लिया।

 

अधिकारियों ने कहा कि राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने सभी मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों को निर्देश दिया है कि वे अपनी सुविधाओं पर दैनिक आधार पर वायरल संक्रमण के मामलों की एक सूची तैयार करें। अधिकारी सोमवार को सारण जिले के अमनौर प्रखंड के सिरशा गांव में बुखार और पेट दर्द से पीड़ित दो बच्चों को इंजेक्शन लगाने वाले झोलाछाप डॉक्टर की तलाश में थे, जिससे उनकी जान चली गई। एसकेएमसीएच के एक अन्य वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञ ने कहा कि मंगलवार को, 10-15 नवजात शिशुओं को बुखार या नवजात गहन देखभाल इकाई (एनआईसीयू) में रखने के बजाय पीआईसीयू में समायोजित किया गया, जिसके परिणामस्वरूप पीआईसीयू में उपलब्ध बिस्तरों की तुलना में अधिक संख्या में मरीज थे।
पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एनएमसीएच) की बाल चिकित्सा इकाई में बुधवार को सभी 84 बेड फुल हो गये। इनमें एनआईसीयू के 22, पीआईसीयू के 15 और पीडियाट्रिक इमरजेंसी के आठ बेड शामिल हैं। एक दिन पहले 84 बिस्तरों के मुकाबले 87 बच्चों को भर्ती किया गया था। डॉ बिनोद कुमार सिंह, प्रोफेसर और बाल रोग प्रमुख और एनएमसीएच के चिकित्सा अधीक्षक बोले- हमारे पास मातृ शिशु स्वास्थ्य भवन में बाल चिकित्सा कोविड -19 रोगियों के लिये अतिरिक्त 42 बेड हैं, जहां कुल 106 बेड कोविड -19 रोगियों के लिये समर्पित हैं। वायरल बुखार के मामलों में वृद्धि के मामले में हम कुछ बच्चों को वहां स्थानांतरित कर सकते हैं। हमारे पास पिछले पांच दिनों से कोई कोविड -19 मरीज नहीं है।
देश के सबसे पुराने मेडिकल कॉलेज, पीएमसीएच के चिकित्सा अधीक्षक डॉ आईएस ठाकुर ने कहा कि बुधवार को बाहरी रोगी विभाग (ओपीडी) के माध्यम से बाल चिकित्सा वार्ड में मरीजों के प्रवेश में 31 अगस्त की तुलना में 21 प्रतिशत की वृद्धि हुई। पीएमसीएच का पीडियाट्रिक वार्ड लगभग भर चुका था।
डॉ ठाकुर ने कहा- बाल रोग विभाग से हमारे 190 बिस्तरों में से 165 पर कब्जा है। शेष 20-25 बेड एमबीबीएस मेडिकोज के क्लिनिकल वाइवा-वॉयस के लिये आरक्षित हैं, जिनकी जांच चल रही है। प्रोफेसर और प्रमुख डॉ लोकेश तिवारी ने कहा- एम्स-पटना में बाल चिकित्सा इकाई में लगभग 80% बिस्तरों पर मरीज हैं। वार्डों में 48 बिस्तरों में से 42; PICU में 12 में से 10 बेड और बच्चों में मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम (MIS-C) के लिए आठ बेड में से दो पर कब्जा है। हालांकि, यह कुछ भी असामान्य नहीं है, क्योंकि हमारे संस्थान में 70% -80% बिस्तर अधिभोग सामान्य मानदंड है। हमारे पास सभी तरह के मरीज हैं, जिनमें 4-5 सांस की बीमारी भी शामिल है।

 

 

 

बेतिया के सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल (जीएमसीएच) में सांस की गंभीर बीमारी के 24 मामले सामने आए। जीएमसीएच के चिकित्सा अधीक्षक डॉ प्रमोद तिवारी ने कहा- हमारे पास 30 बिस्तर हैं और अन्य 39 बिस्तरों की व्यवस्था कर रहे हैं।

 

input: Live Bihar

Share This Article.....

Leave a Reply

Your email address will not be published.